राजनीति

  • झारखंड : देश के 12 वें प्रभावशाली व्यक्ति बने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इन दिनों सुर्खियों में हैं। फेम इंडिया मैगजीन और एशिया पोस्ट ने एक सर्वेक्षण के आधार पर उनका नाम देश के 50 प्रभावशाली लोगों की सूची में शामिल किया है। इन 50 लोगों में भी मुख्यमंत्री सोरेन का नाम 12 वें स्थान पर है। यह झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के लिये एक बड़ी उपलब्धि है। यह उपलब्धि कितनी बड़ी है इसका अंदाजा इसी लगा सकते हैं कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी उनसे पीछे हैं। केजरीवाल 13 वें स्थान पर हैं तो नीतीश कुमार 14 वें स्थान पर। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेने का प्रभावशाली लोगों की सूची में सम्मानजनक स्थान मिलने से झारखंडवासियों में काफी उत्साह है। उन्हें लगातार बधाईयां दी जा रही है। आइये जानते हैं कि टॉप 10 प्रभावशाली हस्तियों में कौन लोग हैं - 1.नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री 2.योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश, 3. अमित शाह, केंद्रीय गृह मंत्री 4. रतन टाटा, उद्योगपति 5. मुकेश अंबानी, उद्योगपति 6. पी विजयन, मुख्यमंत्री केरल 7. श्रीश्री रविशंकर, आर्ट ऑफ लिविंग 8. राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री 9. अजीत डोभाल, एनएसए और 10. नवीन पटनायक, मुख्यमंत्री ओडिशा। दरअसल झामुमो लीडर हेमंत सोरेन को अभी मुख्यमंत्री बने 6 महीने भी नहीं हुए हैं।

    Read more ...
  • टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना वायरस की वजह से भारत समेत लगभग पूरी दुनिया में लॉकडाउन है। देश की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है। श्रमिकों के पास न काम है और न ही पॉकेट में दो जून की रोटी खाने के लिये पैसे। ऐसे मे हा-हा कार मचा हुआ है। इस बीच केंद्र सरकार ने 20 लाख करोड़ रूपये पैकेज का ऐलान किया है। इसको लेकर सवाल किये जा रहे हैं । कोरोनो वायरस महामारी को लेकर हम सभी के पास सरकार से पूछने के लिए कई सवाल हैं। सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि सरकार हमारी अर्थव्यवस्था और आजीविका को बचाने के लिए क्या कर रही है? सरकार प्रवासी संकट से कैसे निपट रही है? सरकार ने हाल ही में 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज पेश किया, क्या ये एक क्रांतिकारी कदम या सिर्फ छलावा? क्विंट के एडिटोरियल डायरेक्टर संजय पुगलिया ने इन सारे सवालों पर पूर्व वित्त मंत्री पी चितंबरम से बातचीत की।

    Read more ...
  • श्रमिको की चीखें सरकार तक पहुंचा के रहेंगे - कांग्रेस लीडर राहुल गांधी।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना महामारी के दौरान सबसे अधिक मुसिबतों का सामना करना पड़ रहा है श्रमिकों को। रास्ते में कितने श्रमिकों ने दम तोड़ दिया है इसका कोई हिसाब किताब नहीं। ट्रेनों से कटकर श्रमिकों की मौत हो रही है। भूख से दम तोड रहे हैं। सिर्फ श्रमिक हीं नहीं छोटे छोटे बच्चे और महिलाएं भी परेशान व भारी तकलीफ में हैं। इस स्थिति को लेकर कांग्रेस लीडर राहुल गांधी ने एक मार्मिक वीडियो जारी किया और साथ ही ट्वीट किया कि "अंधकार घना है कठिन घड़ी है, हिम्मत रखिए-हम इन सभी की सुरक्षा में खड़े हैं। सरकार तक इनकी चीखें पहुँचा के रहेंगे, इनके हक़ की हर मदद दिला के रहेंगे। देश की साधारण जनता नहीं, ये तो देश के स्वाभिमान का ध्वज हैं... इसे कभी भी झुकने नहीं देंगे।" कांग्रेस लीडर राहुल गांधी लगातार श्रमिकों की समस्याओं को उठा रहे हैं। आर्थिक पैकेज के घोषणा से पहले 12 मई को राहुल गांधी ने ट्वीट के हवाले से सरकार से आग्रह किया था कि " प्रधानमंत्री जी से मेरा आग्रह है कि आज रात के सम्बोधन में सडकों पर चलते हमारे लाखों श्रमिक भाइयों-बहनों को उनके घरों तक सुरक्षित पहुंचाने की घोषणा करें। इसके साथ ही इस संकट के समय में सहारा देने के लिए उन सभी के खातों में कम से कम 7500 रु का सीधा हस्तांतरण दें।"

    Read more ...
  • लॉकडाउन बढे या नहीं इसको लेकर प्रधानमंत्री ने राज्य के मुख्यमंत्रियो से बातचीत की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनकी चुनौती यह है कि गांवों तक संक्रमण न पहुंचे।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिये लागू लॉकडाउन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर देश के विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की। प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियों कांफ्रेंसिंग में कहा कि उनकी सबसे बड़ी चुनौती यह है कि कोरोना का संक्रमण गांवों तक न पहुंचे। वहीं लॉकडाउन को लेकर मुख्यमंत्रियों की राय अलग अलग थी। महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, पंजाब और तेलंगाना के मुख्यमंत्री जहां लॉकडाउन बढाने के पक्ष में रहे वहीं तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने कहा कि ट्रेन और विमान सेवा बंद ही रखा जाये। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे : महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुंबई में लोकल ट्रेन चलाने की इजाजत देने की मांग की। उन्होंने कहा कि जरूरी सेवाओं के लिये लोकल ट्रेनो का चलना जरूरी है। साथ हीं उन्होंने यह भी कहा कि लॉकडाउन के मामले में निश्चित और ठोस निर्देश दिये जाने चाहिये। उन्होंने आग्रह किया कि अगर जरूरत पड़ी तो राज्य में केंद्रीय बल तैनात किया जाना चाहिये क्योंकि पुलिस भारी दबाव में है। जवान भी संक्रमित हो रहे हैं।

    Read more ...
  • महाराष्ट्र : मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आरजेडी विधायक सरोज यादव से बातचीत के दौरान संकट में फंसे श्रमिकों के मोबाइल नंबर व पते खुद लिखे और मदद की।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इन दिनों सुर्खियों में है, संकट में फंसे श्रमिकों के मदद के लिये। इस मामले में किसी प्रोटोकॉल की भी प्रवाह नहीं करते। वे खुद हीं कार्य कर लेते हैं। दरअसल राजधानी मुंबई समेत महाराष्ट्र के कई इलाकों में दूसरे राज्यों के श्रमिक कार्यरत हैं। इनमें बिहार के भी मजदूर बड़ी संख्या में है। वे भी लॉकडाउन की वजह से यहां फंसे हुए हैं। इन्हीं श्रमिको को लेकर विधायक सरोज यादव ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से फोन पर बातचीत कर श्रमिको की मदद के लिये आग्रह किया और मुख्यमंत्री उद्धव ने भी हर संभव मदद करने की बात कही। आगे जानने से पहले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और बिहार से आरजेडी विधायक सरोज यादव के बातचीत के अंश को देखिये : विधायक - सर नमस्कार। सीएम ‌साहब बोल रहे हैं? मुख्यमंत्री - जी, बोलिए, "उद्धव" बोल रहा हूं। विधायक - सर, मैं बिहार से आरजेडी विधायक सरोज यादव बोल रहा हूं। मेरे यहां के कुछ लेबर आपके यहां दो-तीन जगह फंस गए हैं। उन लोगों के पास खाने को भी पैसा नहीं है। मुख्यमंत्री - आप चिंता न करें, सिर्फ़ जगह बोल दें। .... उन सभी के पत्ते और मोबाइल नंबर लिखवा दें जिससे उनके पास पहुंचा जा सके।

    Read more ...
  • कोरोना प्रकरण : हमारे योद्धा संसाधन कमी के बावजूद कोरोना से जंग लड़ रहे हैं उनका सम्मान करें - कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना के प्रभाव को देखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राष्ट्र के नाम संदेश दिया है। उन्होंने कोरोना से लड़ रहे डॉक्टर्स, सफाईकर्मियों, पुलिस सहित सरकारी अधिकारियों के प्रति आभार प्रकट किया और कहा कि इससे बड़ी देश भक्ति कोई और नहीं। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि - कोरोना संकट में डॉक्टर्स, सफाईकर्मियों, पुलिस सहित सरकारी अधिकारियों के डटे रहने से बड़ी "देशभक्ति" कोई नहीं है। हम एकता, अनुशासन और आत्मबल के भाव से कोरोना को परास्त करेंगे। धैर्य एवं संयम के लिए देशवासियों का धन्यवाद। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि कई जगहों पर डॉक्टरों के साथ बुरा बर्ताव करने की खबरें हैं। उन्होंने इसकी निंदा की और कहा कि ये गलत हैं। डॉक्टर्स और मेडिकल टीम मरीजों की देखभाल कर रहे हैं। उन्हें जीनव दे रहे हैं। उनके पास अपनी सुरक्ष उपकरण का अभाव है बावजूद वे हम सभी के जीवन को बचाने में लगे हैं। पुलिस कठिन परीश्रम कर रही है। लॉकडाउन नियमों का पालन करवा रही है। लोगों की मदद कर रही है। सरकारें भी इस गंभीर संकट पर नियंत्रण पाने की कोशिश में है। हमें सभी का सम्मान करना चाहिये।

    Read more ...
  • लॉकडाउड में कांग्रेस पार्टी सरकार के साथ। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा और हर सेक्टर के लिये विशेष पैकेज की मांग की न्याय योजना के तहत।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना वायरस धीरे धीरे भारत को अपने गिरफ्त में लेने के लिये आतुर है। एहतियात के तौर पर भारी आर्थिक नुकसान की परवाह किये बिने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों का लॉक डाउन का आदेश दिया है। मामले की गंभीरता को समझते हुए कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने 21 दिनों के लॉकडाउन का समर्थन किया और इस सिलसिले में प्रधानमंत्री को चिठ्ठी लिखी। और साथ ही महत्वपूर्ण कदम उठाने का आग्रह किया। - 21 दिनों के लॉकडाउन का समर्थन किया कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने। - कोरोना वायरस से लड़ रहे मेडिकल टीम को एन-95 मास्क व अन्य सुरक्षा उपरकरण उपलब्ध कराया जाये। - न्याय योजना के तहत मजदूरों और गरीबों को आर्थिक मदद दी जानी चाहिये। पैसे सीधे उनके खाते में जाये। - केंद्र सरकार सभी ईएमआई पर 6 महीने के लिये रोक लगाये। कोराना प्रभावित दौर में बैंक ब्याज माफ करे। - उद्योग जगत के लिये राहत पैकेज की व्यवस्था की जानी चाहिये। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में विश्वास दिलाया कि इस विपदा की घड़ी में कांग्रेस पार्टी साथ में है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की न्यूनतम आय गारंटी योजना यानी न्याय योजना लागू करना जरूरी है। योजना ऐसी हो कि हर सेक्टर के लिये विशेष राहत पैकेज बनाया जाये। टैक्स व देनदारी पर छुट हो।

    Read more ...
  • दिल्ली का दंगा एक सुनियोजित साजिश, वह कौन है जो देश को बदनाम करना चाह रहा है : वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र प्रसाद

    उधर गुजरात में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के स्वागत में लगे हुए थे और ट्रंप भारत की बड़ाई करते हुए कह रहे थे कि यह बहुत ही सुरक्षित देश है और यहां के लोग बहुत ही शानदार होते हैं, ठीक उसी समय दिल्ली में दंगा भड़क रहा था। आगजनी हो रही थी। पत्थरबाजी ही नहीं गोलीबारी तक हो रही थी। और वह सब पुलिस के सामने ही हो रहा था। पुलिस आधे अधूरे मन से अपना फर्ज निभा रही थी। शायद वह अपना फर्ज निभा भी नहीं रही थी, बल्कि निभाने का नाटक कर रही थी। ऐसे विडियो देखे गए हैं, जिनमें पुलिस के पास के ही लोग पत्थरबाजी कर रहे थे और पुलिस खड़ी तमाशा देख रही थी। ट्रंप की भारत यात्रा बहुत पहले ही तय हो गई थी। सीएए के खिलाफ देश भर में विरोध प्रदर्शन भी पहले से ही हो रहा था। जाहिर है, यह अनुमान लगाया जा सकता था कि उस यात्रा के दौरान देश में कहीं न कहीं गड़बड़ी हो सकती है और यात्रा को विफल करने की कोशिश की जा सकती है। मीडिया रिपोट्स की मानें, तो यह खुफिया जानकारी भी पुलिस को थी कि दिल्ली में कुछ गड़बड़ी हो सकती है। दिल्ली का शाहीन बाग सीएए विरोधी आंदोलन का प्रतीक बना हुआ है, हालांकि यहां का आंदोलन पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहा है। एक दो बार वहां आंदोलन विरोधियों ने ही हिंसा फैलाने की कोशिश की, लेकिन आंदोलनकारियों के संयम के कारण हिंसा फैलाने के वे प्रयास विफल हो गए थे। लेकिन फिर भी पुलिस के पास यह खुफिया जानकारी थी कि कुछ गड़बड़ हो सकती है। सवाल उठता है कि पुलिस ने उसे रोकने के लिए कुछ क्यों नहीं किया? सवाल पुलिस की विफलता का ही नहीं है, बल्कि राजनैतिक नेतृत्व भी विफल रहा है। शाहीन बाग जैसे आंदोलन भारत में कोई पहली बार नहीं हो रहे हैं।

    Read more ...
  • युवा आक्रोश रैली : दो करोड़ को रोजगार देना तो दूर बीते एक साल में एक करोड़ लोगों की नौकरी चली गई - कांग्रेस लीडर राहुल गांधी।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com पिंक सिटी के नाम से चर्चित राजस्थान की राजधानी जयपुर में कांग्रेस लीडर राहुल गांधी ने 28 जनवरी को केंद्र की मोदी सरकार को निशाना बनाया और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जी ने 2 करोड़ रोजगार का वादा किया था। वादा पूरा करना तो दूर बीते एक साल 1 करोड़ लोगों की रोजगार चली गई। देश के युवाओं में निराशा है। आज बड़े दुख के साथ मुझे कहना पड़ रहा है, 21वीं सदी का हिंदुस्तान अपनी पूंजी को बर्बाद कर रहा है। उन्होंने कहा कि देश के युवा हीं सबसे बड़ी पूंजी है। इसे बर्बाद किया जा रहा है। क्योंकि युवा पीढ़ी इस देश के लिए जो कर सकती है वह उसे करने नहीं दिया जा रहा है। गुलाबी नगरी में आयोजित युवा आक्रोश रैली को संबोधित कर रहे राहुल गांधी ने कहा कि देश के हालात इस देश का हर युवा जानता है और पहचानता है। हर देश के पास कोई न कोई पूंजी होती है हिंदुस्तान के पास उसकी सबसे बड़ी पूंजी उसके करोड़ों युवा हैं। हमारे पास दुनिया के सबसे अच्छे होशियार युवा हैं। पूरी दुनिया इस बात को मानती है कि हिंदुस्तान का युवा पूरी दुनिया को बदल सकता है। कांग्रेल लीडर गांधी ने कहा कि देश में बेरोजगारी लगातार बढती जा रही है। रोजगार मिलना तो दूर जिनकी नौकरियां है वह भी जा रही है। दो करोड़ लोगों को नौकरी देने की बात कर रही थी सरकार लेकिन इसके विपरीत बीते एक साल में एक करोड़ यवाओं की नौकरी चली गई।

    Read more ...
  • जनगणना के साथ ओबीसी की गणना भी होगी महाराष्ट्र में। विधान सभा में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित। बिहार चुनाव में भी सुनाई देगी इसकी गूंज : वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र प्रसाद।

    महाराष्ट्र विधानसभा में विधायक उस समय अवाक रह गए जब स्पीकर नाना भाऊ पटोले ने उनके सामने जनगणना से संबंधित प्रस्ताव रखा और विधानसभा को उस पर मतदान करने को कहा। वह प्रस्ताव सरकार की ओर से नहीं आया था। कार्य मंत्रणा समिति द्वारा भी उसे सूचीबद्ध नहीं किया गया था। विधानसभा का वह अधिवेशन सिर्फ एक दिन के लिए ही बुलाया गया था और उसमें संसद द्वारा अनुसूचित जातियों और जनजातियों के लोकसभा और विधानसभा में मिल रहे आरक्षण को दस और साल के लिए बढ़ाने के फैसले का अनुमोदन करना मात्र था। संसद का वह फैसला संविधान का हिस्सा बन चुका है और महाराष्ट्र की विधानसभा का वह सत्र महज एक औपचारिकता थी। जब सत्र में वह काम पूरा हो गया, तो एकाएक स्पीकर पटोले ने अपना वह प्रस्ताव पढ़ा। वह प्रस्ताव था जनगणना 2021 के दौरान ओबीसी की गणना करने का।

    Read more ...
  •     
City4Net
Political