अदालत

  • CAA : चंद्रशेखर गिरफ्तारी पर अदालत ने कहा कि पुलिस ऐसा वर्ताव कर रही है जैसे जाम-मस्जिद पाकिस्तान में है। शांतिपूर्ण आंदोलन करने का अधिकार सभी को।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल होने की वजह से भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को पुलिस ने गिरफ्तार किया था 21 दिसंबर 2019 को। पुलिस उनके जमानत याचिक का विरोध कर रही है। लेकिन अदालत ने चंद्रशेखर आजाद के खिलाफ लगाये गये आरोप पर सबूत पेश नहीं कर पाने पर दिल्ली पुलिस को कड़ी फटकार लगाई और कहा कि दिल्ली पुलिस ऐसा बर्ताव कर रही है जैसे जामा-मस्जिद पाकिस्तान में है। अगर वहां भी हो तो भी किसी को भी विरोध प्रदर्शन करने का अधिकार है।

    Read more ...
  • हमारी न्यायपालिक स्वतंत्र है : मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे।

    सुप्रीम कोर्ट के नये मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे ने कहा कि हमारी न्यायपालिका स्वतंत्र है। उन्होंने यह बात सुप्रीम कोर्ट के बार एसोसिएशन (SCBA)के स्वागत समारोह मे कही। उन्होंने बार एसोसिएशन और न्यायाधीशों के मामले में कहा कि मैं एक वकील की चुनौतियों को जानता हूं। बतौर बार-सदस्य 22 साल और जज के रूप मे कार्य करते हुये 19 साल हो गये। उन्होंने कहा कि - बेंच बार से अपनी शक्ति प्राप्त करती है। महान फैसले महान दलीलों से निकलते हैं। - बार बेंच की मां हैं। हम एक अविभाजित परिवार हैं। एक के लिए कुछ भी हानिकारक दूसरे को कमजोर करता है। मुझे गर्व है कि मैं इस संयुक्त परिवार में हूं। - ऐसे अनेक मौके आए जब न्यायपालिका को ऐसे मसले सुलझाने पड़े जिसमें कोई हाथ नहीं डालना चाहता। बार और बेंच का तालमेल और सौहार्द से काम करना ही इस संस्थान का गौरव और आभा है।

    Read more ...
  • अयोध्या फैसला : सु्प्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन पर राम-लला-विराजमान का अधिकार माना। मुस्लिम पक्ष को पांच एकड़ जमीन अयोध्या में देने का आदेश।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com अयोध्या प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना ऐतिहासिक फैसला सुनाया। विवादित जमीन (2.77 एकड़) पर राम लला का अधिकार होगा और मस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने के लिये अलग से पांच एकड़ी जमीन दिये जाने का आदेश दिया गया। अर्थात अब राम मंदिर बनाने पर कोई विवाद नहीं है। यह फैसला सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगई के अगुवाई वाले पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने सर्वसम्मति से सुनाया। ये न्यायाधीश हैं : मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस एस ए बोबडे, जस्टिस एस अब्दुल नजीर, जस्टिस डी वाय चंद्रचुड और जस्टिस अशोक भूषण।

    Read more ...
  • मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट के नये मुख्य न्यायाधीश के लिये जस्टिस बोबडे के नाम की सिफारिश की।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com जस्टिस शरद अरविंद बोबडे सुप्रीम कोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश होंगे। उनके नाम की सिफारिश वर्तमान मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने की है। जस्टिस गोगई 18 नवंबर को रिटायर होने वाले हैं और 18 नवंबर को हीं जस्टिस बोबड़े मुख्य न्यायाधीश के पद की शपथ लेंगे और उनका कार्यकाल 23 अप्रैल 2021 तक होगा। नियमानुसार अगले मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति के लिए मौजूदा मुख्य न्यायाधीश हीं सरकार से सिफारिश करता है। जस्टिस शरद बोबडे का जन्म 24 अप्रैल 1956 को महाराष्ट्र के नागपुर में हुआ और उन्होंने नागपुर विश्वविद्यालय से एलएलबी की पढ़ाई की। 1978 में वे महाराष्ट्र बार काउंसिल के सदस्य बने और 1998 में वे वरिष्ठ अधिवक्ता बने। जस्टिस बोबडे 29 मार्च 2000 को बॉम्बे हाईकोर्ट में एडिशनल जज के पद पर नियुक्त हुए, वे 16 अक्तूबर 2012 को मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य नियुक्त हुए और 12 अप्रैल 2013 को उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश बने। जस्टिस बोबडे 23 अप्रैल 2021 तक उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने रहेंगे और मौजूदा मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के बाद वे ही उच्चतम न्यायलय में सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश हैं।

    Read more ...
  • अयोध्या पर सुनवाई पूरी। फैसला 18 नवंबर से पहले।

    टाइम्स ख़बर timeskhabar.com ऐतिहासिक अयोध्या जमीन विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई। नियमित सुनवाई तय होने के बाद सुप्रीम कोर्ट में 40 दिनों तक सुनवाई हुई। पांच सदस्यों वाली संवैधानिक बेंच ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई 18 नवंबर को रिटायर होने वाले हैं। इससे पहले इस पर फैसला आ सकता है। सुनवाई का आज अंतिम दिन था और पांच बजे तक सुनवाई होनी थी लेकिन शाम चार बजे तक सुनवाई पूरी हो गई। - सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई का 40वां और अंतिम दिन था। नियमित सुनवाई की शुरूआत 6 अगस्त(2019) से शुरू हुई थी। - मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने अखिल भारतीय हिन्दू महासभा की ओर से पेश वरिष्ठ वकील विकास सिंह की ओर से जमा किये गये नक्शे को अदालत में हीं फाड़ दिया। दोनो ओर की वकीलों में तीखी बहस हुई।

    Read more ...
  • 12 साल के बाद जमीन के मालिक आप।

    टाइम्स ख़बर timeskhabr.com जमीन से जुड़े मामले में सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसला दिया है। अदालत ने 8 अगस्त को व्यवस्था दी है कि अगर कोई व्यक्ति (कब्जाधारी व्यक्ति/ एडवर्स पजेसर) 12 साल या उससे अधिक समय तक जमीन पर कब्जा रखता है या उसकी देखभाल करता है और मालिक को इसके बारे में पता है लेकिन वह उसे कभी इसे हटाने के लिए नहीं कहता है, तो ऐसा व्यक्ति उस जमीन का मालिक हो जाएगा। सुप्रीम अदालत अदालत ने यह भी कहा है कि इतना ही नहीं अगर ऐसे व्यक्ति को इस जमीन से बेदखल किया जा रहा है तो वह व्यक्ति बतौर मूल स्वामी की तरह जमीन की रक्षा कर सकता है।

    Read more ...
  • चीफ जस्टिस ही है मास्टर-ऑफ-रोस्टर : सुप्रीम कोर्ट

    नई दिल्ली (टाइम्स ख़बर)। सुप्रीम कोर्ट रोस्टर को लेकर कई बार सवाल उठ चुके हैं। इस बीच आज सुप्रीम कोर्ट ने एक सुनवाई के दौरान न्यायिक परम्परा को जारी रखते हुए मुख्य न्यायाधीश की 'मास्टर ऑफ रोस्टर' की भूमिका को बरकरार रखा। दरअसल, सीजीआई की भूमिका को चुनौती पूर्व कानून मंत्री शांति भूषण ने दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व कानून मंत्री शांति भूषण की मांग को खारिज कर दी और कहा कि मुख्य न्यायाधीश ही मास्टर ऑफ रोस्टर होता है। उसके पास ही अलग-अलग बेंच को केस आवंटित करने का अधिकार होता है।

    Read more ...
  • बीजेपी लीडर येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद शपथ समारोह पर रोक लगाने के इंकार किया सुप्रीम कोर्ट ने। रात भर हुई सुनवाई।

    (टाइम्स ख़बर)। बीजेपी लीडर येदुरप्पा मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे सुबह 9 बजे। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाने से इंकार कर दिया। दरअसल कर्नाटक विधान सभा चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। 104 सीटें मिली लेकिन बहुमत नहीं मिला। वहीं कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली। कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन कर दिया। कुल मिलाकर इनके पास 116 सीटें हो गई जो बहुमत से 4 अधिक है। लेकिन राज्यपाल वजूभाई ने बीजेपी को निमंत्रण दिया सरकार बनाने के लिये। राज्यपाल के इस फैसले के खिलाफ कांग्रेस रात 11 बजे सुप्रीम कोर्ट पहुंची। याचिका दायर की। समय न होने की वजह से रात में ही सुनवाई का आग्रह किया। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने भी रात में ही तीन जजों की बेंच बनाई। और मामले की सुनवाई देर रात 2 बजे के आसापास सुनवाई शुरू हुई।

    Read more ...
  • न्यायाधीश जोसेफ के पदोन्नति पर चर्चा नहीं हो सकी कॉलेजियम में।

    नयी दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के नेतृत्व वाली कॉलेजियम ने उत्तराखंड हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के.एम.जोसेफ के पदोन्नति मामले में विचार करने के मुद्दे को टाल दिया। कॉलेजियम ने न्यायमूर्ति जोसेफ को पदोन्नति देकर सुप्रीम कोर्ट न्यायधीश बनाने की सिफारिश की थी। लेकिन केंद्र सरकार ने इसे लौटा दिया। इस पर आज फिर कॉलेजियम को विचार करना था लेकिन नही हो सका।

    Read more ...
  • न्यायमूर्ति के.एम. जोसेफ के पदन्नोति को रोकने का केंद्र सरकार का तर्क आधारहीन –कांग्रेस लीडर व प्रसिद्ध एडवोकेट कपिल सिब्बल।

    न्यायमूर्ति के.एम.जोसेफ को उत्तराखंड के मुख्य न्यायाधीश से सुप्रीम कोर्ट का जस्टिस बनाने के कॉलेजियम द्धारा सिफारिश 10 जनवरी 2018) किया गया था। इस पर सरकार का विरोध और पदोन्नति पर रोक लगाना दोषपूर्ण है।

    Read more ...
  •     
City4Net
Political