कोविड -19

  • जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की खराब सेहत में कोई सुधार नहीं आया है। उनकी स्थिति नाजुक बनी हुई है। उनकी पुत्री शर्मिष्ठा मुखर्जी ने ट्विटर पर जानकारी दी कि उनकी हालत में कोई गिरावट नहीं आया है। उन्होंने कहा चिकित्सा की विशिष्ट भाषा की गहराई में नहीं जाते हुए, बीते दो दिन में मुझे जो बात समझ में आई है वह यह है कि मेरे पिता की हालत बहुत नाजुक बनी हुई है लेकिन उसमें गिरावट नहीं आई है। रोशनी के प्रति उनकी आंख की प्रतिक्रिया में थोड़ा सुधार आया है। 84 वर्षीय पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी को रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में भर्ती ( 10 अगस्त) कराया गया था और उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी। इससे पहले की गई जांच में वे कोविड-19 से संक्रमित होने की पुष्टि हुई। उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया है। साल 25 जुलाई 2012 से 25 जुलाई साल 2017 तक देश के रहे राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की देखभाल बेहतर तरीके से की जा रही है।

    Read more ...
  • कोरोना प्रकरण : भारत में पहली बार एक दिन में 60,000 से अधिक मामले, संक्रमितों की संख्या 20 लाख के पार।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना के मामले लगातार बढते जा रहे हैं। बीते 24 घंटे में 60 हजार से अधिक मामले सामने आये हैं संक्रमण के। कुल संक्रमित लोगों की संख्या 20 लाख के पार हो चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार 13 लाख 78 हजार से अधिक लोंग इस बीमारी से उबर चुक हैं। देश में कोविड-19 के मामलों को एक लाख तक पहुंचने में 110 दिन का वक्त लगा था और 59 दिन में यह आंकड़ा 10 लाख के पार चला गया। इसके बाद संक्रमण के मामलों को 20 लाख का आंकड़ा पार करने में महज 21 दिन का वक्त लगा। यह लगातार नौवां दिन है जब कोविड-19 के एक दिन में 50,000 से अधिक मामले सामने आए हैं। - 7 अगस्त के सुबह 8 बजे तक एक दिन में 62538 लोग संक्रमित हुए। कुल संक्रमितों की संख्या 20 लाख 27 हजार 074 है। - भारत में मृतकों की कुल संख्या 41 हजार 585 हो चुकी है।

    Read more ...
  • कोरोना : विश्व में मृतकों की संख्या 5 लाख के पार। भारत में अबतक 16 हजार से अधिक लोगों की मौत।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com भारत समेत पूरे विश्व में कोरोना के मामले बढते जा रहे हैं। चीन से फैली इस कोरोना को लेकर पूरा विश्व परेशान है। विश्व में अबतक 5 लाख 1 हजार 393 लोगों की मौत हो चुकी है। 41 लाख 21 हजार 262 लोग संक्रमित हुए हैं। 54 लाख 64 हजार 271 लोग स्वस्थ भी हुए हैं। सबसे ज्यादा मौतें अमेरिका में हुई है। वहां अबतक 1 लाख 28 हजार 152 लोगों की मौत हो चुकी है। 13 लाख 87 हजार लोग संक्रमित हैं। भारत में भी मृतकों की संख्या लगातार बढती जा रही है। अब तक 16 हजार 95 लोगों की मौत हो चुकी है। कुल 5 लाख 28 हजार 859 लोग संक्रमित हैं और 3 लाख 9 हजार 713 लोग स्वस्थ भी हुए हैं। वहीं देश में सबसे अधिक प्रभावित राज्य हैं महाराष्ट्र। यहां अबतक 7 हजार 273 लोगों की मौत हो चुकी है। 1 लाख 59 हजार 133 लोग संक्रमित हैं। 84 हजार 425 लोग स्वस्थ भी हुए हैं। महाराष्ट्र में भी राजधानी मुंबई सबसे अधिक प्रभावित है। दूसरे स्थान पर देश की राजधानी दिल्ली है। यहां मृतकों की संख्या 2 हजार 558 तक पहुंच गई है। देश के राज्यों में मृतकों की संख्या :

    Read more ...
  • कोरोणा प्रकरण : विश्व में मृतकों की संख्या 4 लाख 32 हजार से अधिक। वहीं भारत में मृतको की संख्या 9 हजार के करीब।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढते जा रही है भारत समेत पूरे विश्व में। भारत में भी महाराष्ट्र, गुजरात और दिल्ली की स्थिति काफी नाजूक है। देश की राजधानी दिल्ली और देश की आर्थिक राजधानी मुंबई और गुजरात की स्थिति और भी नाजूक है। देश में कोरोना के मामले बढते जा रहे हैं। 8 हजार 8 सौ 84 लोंगो की मौत हो चुकी है। वहीं 3 लाख 8 हजार 993 लोग संक्रमित हैं। 1 लाख 54 हजार 330 लोग स्वस्थ हुए हैं। यहां भी सबसे ज्यादा संक्रमित राज्य है महाराष्ट्र। यहां 3 हजार 717 लोगों की मौत हो चुकी है। 1 लाख 1 हजार 141 लोग संक्रमित हैं। 47796 लोग स्वस्थ भी हुए हैं। महाराष्ट्र, गुजरात और दिल्ली ऐसे राज्य जहां मृतकों की संख्या 1 हजार से अधिक है। एक नजर मृतकों की संख्या पर - महाराष्ट्र 3717, गुजरात 1415, दिल्ली - 1214. महाराष्ट्र में मुंबई की स्थिति काफी गंभीर है। बीते 24 घंटे में 69 मरीजों की मौत हुई। कुल मिलाकर अबतक 2113 लोगों की मौत हो चुकी है। लगभग 57 हजार लोग संक्रमित हैं। ये आंकड़े 13 जून के हैं।

    Read more ...
  • प्रवासी मजदूर पैदल यात्रा न करें, सभी के लिए निशुल्क रेलयात्रा की व्यवस्था : उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया

    टाइम्स खबर timeskhabar.com दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रवासी मजदूरों से पैदल यात्रा न करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि सबकी निशुल्क रेलयात्रा का प्रबंध दिल्ली सरकार ने किया है। सात मई से 25 मई तक 196 ट्रेनों से 2,41,169 लोगों को उनके घर भेजा गया है। इनमें सर्वाधिक बिहार के 1,25,711 लोग हैं, जबकि यूपी के 96,610 मजदूर हैं। इसके साथ ही, झारखंड के 3132, पश्चिम बंगाल के 3864, मध्यप्रदेश के 9196 प्रवासी श्रमिकों को भेजा गया है। आज भी 18 ट्रेन से 30,000 लोगों को भेजा गया है। इनमें 11 ट्रेनें बिहार तथा 6 ट्रेनें यूपी भेजी गई हैं। उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने कहा कि लॉकडाउन के कारण दिहाड़ी मजदूरों और गरीबों का ज्यादा नुकसान नहीं हो, इसके लिए दिल्ली सरकार ने कई ठोस कदम उठाए हैं। प्रत्येक गतिविधि पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल स्वयं लगातार नजर रख रहे हैं। श्री केजरीवाल ने पहले ही कह दिया था कि जो प्रवासी मजदूर दिल्ली में हैं, वे भी दिल्ली के ही लोग हैं, दिल्ली ही उनका घर है। उन्हें कहीं जाने की जरूरत नहीं है। हमने सबका इंतजाम किया है। इसके बावजूद काम बंद होने और घर-परिवार की चिंता या अन्य कारणों से बहुत से लोग अपने गांव लौटने लगे। यहां तक कि बहुत से लोग पैदल जाने को मजबूर हुए। इस बीच रेलयात्रा प्रारंभ होने पर हमने सबको निशुल्क भेजने का इंतजाम किया।

    Read more ...
  • धनबाद कोरोना मुक्त। मेडिकल टीम, पुलिस-प्रशासन और सफाई कर्मियों का धन्यवाद : उपायुक्त अमित कुमार।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com देश-दुनिया में जहां कोरोना का कहर जारी है वहीं झारखंड के धनबाद शहर से अच्छी खबर सामने आई है। जिला प्रशासन ने धनबाद जिले को कोरोना मुक्त होने का ऐलान किया। धनबाद जिले के उपायुक्त अमित कुमार के ट्वीटर हेंडर से यह खबर आई कि " सभी को यह सूचित करना है कि वर्तमान में धनबाद जिला कोरोना मुक्त हो गया है। संक्रमित पाए गए दोनों व्यक्तियों का जांच रिपोर्ट नेगेटिव आया है तथा दोनों व्यक्ति स्वस्थ हैं। जिला प्रशासन की ओर से सभी स्वास्थ्यकर्मियों, सफाई कर्मियों, प्रशासनिक कर्मियों तथा जनता के सहयोग के लिए धन्यवाद।" उपायुक्त अमित कुमार ने इसके लिये सभी डॉक्टर्स समेत पूरी मेडिकल टीम, पैरामेडिकल टीम, पुलिस पदाधिकारी व सफाई कर्मचारी समेत तमाम कोरोना योद्धाओं को इस सफलता के लिये धन्यवाद दिया। साथ हीं उन्होंने लोगों से निम्नलिखित गाइड लाइन के पालन करने आग्रह किया 1. घर से बाहर निकलते समय सोशल-डिस्टेंसिंग का पालन करें। 2. अति आवश्यक हो तो ही घर से मास्क लगाकर निकलें। 3. बार बार हाथों को अच्छी तरीके से धोयें व सेनेटाइज करें। 4. घर के बुजुर्ग और बच्चों की विशेष रूप से देखभाल करें। 5. यदि कोई व्यक्ति अन्य जिले से आया हो तो इसकी सूचना निश्चित रूप से जिला प्रशासन को उपलब्ध करायें। उल्लेखनीय है कि धनबाद में पहला मामला 16 अप्रैल को कुमारधुबी के बाघाकुड़ी से सामने आया था और दूसरा मामला 18 अप्रैल को हीरापुर के डी एस कॉलनी से आया था।

    Read more ...
  • कोरोना वायरस की वजह से देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित। आर्थिक मजबूती के लिये वरिष्ठ पत्रकार दीपक ने भी आर्थिक योगदान दिया प्रधानमंत्री कोष में।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना की वजह से देश इस समय संकट की दौर से गुजर रहा है। इसमें आर्थिक तंगी शामिल है। देश को आर्थिक मजबूती देने के लिये देश के पत्रकार भी सामने आ रहे हैं। उन्हीं में से एक है देश के प्रतिष्ठित व वरिष्ठ पत्रकार दीपक चौरसिया। उन्होंने कोरोना के खिलाफ जारी जंग में परिवार के हर सदस्य के साथ आर्थिक योगदान दिया। कितनी आर्थिक मदद की इसकी जानकारी तो नहीं लेकिन उन्होंने प्रधानमंत्री राहत कोष में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इसके लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार दीपक का आभार भी व्यक्त किया। प्रधानमंत्री ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। जवाब में दीपक ने भी प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त किया। दीपक वर्तमान में न्यूज चैनल न्यूज-नेशन के कंसल्टिंग एडिटर हैं। #PMCaresFunds में आर्थिक योगदान सिर्फ दीपक ने हीं नहीं बल्कि उनकी पत्नी अनसुइया और दोनो पुत्रियां आलोकिता और अलंकृता ने भी योगदान दिया है। आलोकिता जहां 9 साल की हैं वहीं छोटी पुत्री 5 साल की। दोनो के नाम पर जो बतौर पॉकेट मनी जमा किये गये थे वे #PMCARES फंड में जमा करा दिये गये। उनका अन्य सबसे अलग और अहम योगदान है।

    Read more ...
  • कोरोना से लड़ने के लिये घर पर रहकर नियमों का पालन करें और अंधविश्वास पर विश्वास न करें - एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना वायरस का कहर महाराष्ट्र समेत पूरे देश व विश्व में जारी है। इसको लेकर देश के पूर्व रक्षा मंत्री व एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ( Sharad Pawar) ने देश वासियों से अपील की है कि वे इस मामले में दिये गये निर्देशों का पालन करें। उन्होंने ट्वीट किया कि देश में घोषित लॉकडाउन का आज तेरहवां दिन है। 8 दिन बाकी है। इस दौरान पूरी तरह नियमों का पालन किया जाना चाहिये। उन्होंने विश्वास जताया कि देश कोरोना के खिलाफ जीत हासिल कर इतिहास रचेगा। पूर्व रक्षा मंत्री पवार ने महात्मा ज्योतिराव फुले के एक संदेश के मार्फत यह कहा कि महात्मा फुले ने कभी भी अंधविश्वास की वकालत नहीं की। अंधविश्वास इंसान को भगवान बनाता है। यह चिकित्सा के पाठ्यक्रम को रोकता है। उन्होंने कहा कि चाहे कुछ भी हो जाये मनुष्य को देवता नहीं होना चाहिये। एक व्यक्ति को हमेशा एक चिकित्सक होना चाहिये। सहायक ज्ञान की भूमिका को स्वीकार किया जाना चाहिये।

    Read more ...
  • कोरोना प्रकरण : बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और तेजप्रताप ने लालटेन जलाकर प्रधानमंत्री मोदी के दीये जलाने की अपील का किया समर्थन।

    टाइम्स खबर timeskhabar.com कोरोना वायरस ( Corona virus) के घातक हमले के खिलाफ देश एक साथ है। आरजेडी नेत्री और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और उनके बड़े बेटे व बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दीये जलाने वाले अपील का अपने हीं अंदाज में समर्थन किया। उन्होंने रात नौ (5 अप्रैल) 9 मिनट के लिये अपने घर के लाइट बंद रखे और दीये के जगह लालटेन जलाये। लालटेन आरजेडी का चुनाव चिन्ह है। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा कि ग़रीबों के घर चूल्हा जले, कोई भूख से ना मरे। सबके घर एक समान रोशनी हो। यही ईश्वर से प्रार्थना है। उन्होंने कह कि यह एक खतरनाक बीमारी है इसलिये सभी से आग्रह है कि वे अपने घर में रहें और सुरक्षित रहें। तेज प्रताप ने ट्वीट किया कि यूं ही कट जाएगा सफर साथ चलने से, मंजिल आएगी नजर साथ चलने से... हम हर उस शख्स के साथ खड़े हैं जो इस भयावह महामारी की लड़ाई में अपना योगदान दे रहे हैं। COVID-19 की अन्धकार को भगाएंगे, लालटेन हीं जलाएंगे।।

    Read more ...
  • फ्लोर टेस्ट एक फरेब बन गया है और हम सभी संवैधानिक अराजकता के गवाह - वरिष्ठ कांग्रेस लीडर कपिल सिब्बल।

    मध्य प्रदेश में लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई कांग्रेस की सरकार को अलोकतांत्रिक तरीके से गिराकर बीजेपी ने सरकार बनाई। सरकार बनाने के लिये जिस तरीके का उपयोग किया गय वह अद्धितीय है। फ्लोर टेस्ट एक तरह से फरेब बन गया। एक तरह से लगता है कि राजनीति में पापी नहीं होते। यह उनलोगों के लिये है जो किसी भी कीमत पर सत्ता हडपना चाहते हैं। लेकिन राजनेताओं की कलाबाजी धीरे-धीरे हमारे संविधान के विभिन्न प्रावधानों में अंतर्निहित हमारी लोकतांत्रिक संस्कृति के मूलमंत्र में खायी जा रही है। संविधान की दसवीं अनुसूची अवसरवाद की राजनीति से निपटने के लिए थी - "आया राम और गया राम" को रोकने के लिए। यह संसद और विधान सभाओं के सदस्यों की अयोग्यता का प्रावधान करता है। यदि कोई भी ऐसा सदस्य स्वेच्छा से उस राजनीतिक दल की सदस्यता छोड़ देता है, जिसके पास वह संसद या विधायिका की कार्यवाही के दौरान पार्टी द्वारा जारी किए गए व्हिप के विरुद्ध वोट करता है। प्रारंभ में, अयोग्यता सिद्धांत लागू नहीं होता था यदि एक राजनीतिक दल के एक तिहाई सदस्य उस पार्टी के प्रति अपनी निष्ठा को बदल देते थे जिसके चुनाव चिन्ह पर वे चुने जाते थे और दूसरे राजनीतिक दल में शामिल हो जाते थे।

    Read more ...
  •     
City4Net
Political