राजनीति
  • वैश्विक तनाव के बीच प्रधानमंत्री मोदी रूस पहुंचे। अमेरिका और रूस के बीच संतुलन कायम रखने की चुनौती।

    (राजेश कुमार, ग्लोबल खबर) देश में यानी घर के अंदर घरेलू झगडे कितने भी हो लेकिन विश्व में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम स्थापित हो चुका है। इतने अनुभव प्राप्त कर चुके हैं कि इसका लाभ देश को सदैव मिलता रहेगा। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रूस के सोचि पहुंच गये हैं। उनकी मुलाकात रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन से होगा। राष्ट्रपति पुतिन बीते महीने एक बार फिर रूस के राष्ट्रपति चुने गये हैं छह सालों के लिये। राष्ट्रपति चुने जाने के बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रूस आने का न्यौता दिया जिसे प्रधानमंत्री ने स्वीकार कर लिया।

    Read more ...
  • कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे चुनाव पूर्व जनमत सर्वेक्षण पर प्रतिबंध लगे : वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र प्रसाद ।

    (नवभारत टाइम्स के पूर्व रेजिडेंट संपादक उपेन्द्र प्रसाद)। कर्नाटक विधानसभा चुनावों ने एक बार फिर चुनाव पूर्ण जनमत सर्वेक्षणों को गलत साबित कर दिया है। आमतौर पर ये गलत ही साबित होते हैं। इक्का दुक्का कभी कभी यह सही साबित हो जाएं, तो यह अलग बात है, अन्यथा ये गलत होने के लिए अभिशप्त हैं। सवाल यह उठता है कि ये गलत क्यों होते हैं? एक कारण तो सर्वेक्षण करने के तरीके हो सकते हैं। लेकिन क्या वाकई सर्वेक्षण के तरीके गलत होते हैं या जानबूझकर सर्वेक्षण के नतीजों को गलत किया जाता है, ताकि जनमत हो प्रभावित किया जा सके।

    Read more ...
  • पूर्व मुख्यमंत्रियों के सरकारी बंगले सुप्रीम कोर्ट का उचित फैसला : वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र प्रसाद।

    (नवभारत टाइम्स के पूर्व रेजिडेंट संपादक उपेन्द्र प्रसाद)।सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को लखनऊ में मिले सरकारी बंगले के आबंटन को गैरकानूनी घोषित कर दिया है। अब उन्हें उन बंगलों से हटने पड़ेंगे। इस तरह का फैसला सुप्रीम कोर्ट ने कोई पहली बार नहीं दिया है। दो साल पहले जब उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव की सरकार थी, उस समय भी इसी तरह का आदेश देश के सर्वाच्च न्यायालय ने जारी किया था और लग रहा था कि वे पूर्व मुख्यमंत्री अपने अपने बंगले खाली कर देंगे।

    Read more ...
  • जिन्ना पर विवाद : पाकिस्तान के जनक से यह कैसा मोह? वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र प्रसाद।

    (नवभारत टाइम्स के पूर्व रेजिडेंट संपादक उपेन्द्र प्रसाद)। पाकिस्तान के जनक मुहम्मद अली जिन्ना एक बार फिर भारत की राजनीति पर हावी हो रहे हैं। आश्चर्य की बात है कि समस्या ग्रस्त इस देश में नित्य नई समस्याएं पैदा की जा रही है और देश की राजनीति मूलभूत समस्याओं को छोड़कर कृत्रिम समस्याओं से ही संचालित होती दिखाई दे रही है। जिन्ना भारत छोड़ चुके हैं। भारत क्या वे दशकों पहले इस दुनिया को ही छोड़ चुके हैं। वे खुद अपने पाकिस्तान का राजनीति का मसला नहीं बनते, लेकिन भारत की राजनीति उनके लिए अब भी उर्बर बनी हुई है, जितना शायद उस समय थी जब वह भारत को विभाजित कर पाकिस्तान के निर्माण की मांग कर रहे थे।

    Read more ...
  • कर्नाटक तय करेगा शाह का भविष्य

    (लेखक - प्रवीण कुमार, संपादक, सत्ता विमर्श)। राजीनितक गलियारों में इस बात का शोर मचा है कि कर्नाटक चुनाव में अगर भाजपा हारी तो पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और भाजपा की चुनावी जीत के चाणक्य अमित शाह की छुट्टी हो जाएगी। लिहाजा कर्नाटक चुनाव शाह के लिए सबसे बड़ी अग्निपरीक्षा है। अमित शाह को करीब से जानने वाले बताते हैं कि भाजपा अध्यक्ष को इतना नर्वस उन्होंने पहले कभी नहीं देखा। इसकी वजहें भी हैं। पहली यह कि भाजपा का आंतरिक सर्वे भी उन्हें कर्नाटक में जीत की गारंटी नहीं दे रहा है और दूसरी आरएसएस के नीति-नियंता कर्नाटक की चुनावी बिसात पर शाह की चली गई चाल से बेहद नाराज हैं।

    Read more ...
  • चर्चिल और जिन्नाह की साज़िश का नतीजा था देश का बंटवारा - वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह।

    भारत का बँटवारा एक बहुत बड़ा धोखा था जो कई स्तरों पर खेला गया था. अँगरेज़ भारत को आज़ाद किसी कीमत पर नहीं करना चाहते थे लेकिन उनके प्रधानमंत्री विन्स्टन चर्चिल को सन बयालीस के बाद जब अंदाज़ लग गया कि अब महात्मा गांधी की आंधी के सामने टिक पाना नामुमकिन है तो उसने देश के टुकड़े करने की योजना पर काम करना शुरू कर दिया .जिन्नाह अंग्रेजों के वफादार थे ही , चर्चिल ने देसी राजाओं को भी हवा देना शुरू कर दिया था . उसको उम्मीद थी कि राजा लोग कांग्रेस के अधीन भारत में शामिल नहीं होंगें

    Read more ...
  • इतने लाचार कभी न थे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार - वरिष्ठ पत्रकार राजेश कुमार।

    (लेखक : राजेश कुमार)। एक समय था जब जदयू अध्यक्ष व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बातों को गंभीरता से लिया जाता था राष्ट्रीय राजनीति में। सहयोगी दल उनकी बातों पर गौर तो फरमाते ही थे साथ ही बीजेपी ने भी उन्हें हल्के में लेने की गलती कभी नही की। लेकिन आज उनके पास सबकुछ है वे राजद को छोड़ बीजेपी से हाथ मिलाकर मुख्यमंत्री बन गये। समाजवादी नेता शरद यादव को बाहर कर पार्टी अध्यक्ष भी हैं। उनकी सहयोगी पार्टी बीजेपी के केंद्र से लेकर 20 राज्यों में सरकार है। वे बड़े गठबंधन का हिस्सा हैं बावजूद अब उनमें वो बातें नहीं दिखती जो एक समय हुआ करता था।

    Read more ...
  • बलात्कार की बढ़ती घटनाएं तीव्र न्याय से ही इन्हें रोका जा सकता है - वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र प्रसाद।

    (नवभारत टाइम्स के पूर्व रेजिडेंट संपादक उपेन्द्र प्रसाद)बलात्कार की घटनाएं छूत की बीमारी की तरह फैलती जा रही है. पहले बलात्कार की घटनाओं की खबर आती थीं, अब सामूहिक बलात्कार की घटनाओं की खबरें ज्यादा आती हैं. बलात्कार की घटनाएं अपने आप में लोमहर्षक होती हैं और यदि किसी बच्ची के साथ बलात्कार और सामूहिक बलात्कार की घटना की खबरें सुनने को मिले, तो फिर नीचे से ऊपर तक हिल जाना सभ्य समाज के व्यक्ति के लिए स्वाभाविक है. इसके बाद सहज ही यह विचार जेहन में आता है कि ऐसे लोगों को फांसी पर चढ़ा दिया जाना चाहिए। बलात्कार और सामूहिक बलात्कार की बढ़ती घटनाओं के बीच यह मांग भी तेज होती जा रही है कि बलात्कारियों को फांसी की सजा दे दी जानी चाहिए.

    Read more ...
  • भारत-रत्न हैं सुपर 30 के गणितज्ञ आनंद कुमार।

    भारत-रत्न हैं सुपर 30 के गणितज्ञ आनंद कुमार। बिहार के गणितज्ञ आनंद कुमार सुर्खियों में हैं। उनकी संस्थान सुपर-30 के सभी छात्र इस साल भी आईआईटी-जेईई (भारतीय प्रौद्यागिकी संस्थान-संयुक्त प्रवेश परीक्षा) में सफलता प्राप्त की।

    Read more ...
  • डॉ भाभा को भारत रत्न कबतक ?

    देश के कई हस्तियों को भारत-रत्न से सम्मानित किया जा चुका है। लेकिन डॉ होमी जहांगिर भाभा को अब तक सम्मानित नहीं किया गया भारत-रत्न से। उन्हें भी भारत रत्न से सम्मानित किया जाना चाहिये। इससे विज्ञान के छात्रों में उत्साह आयेगा और नये छात्र विज्ञान को अपना करियर बनाने के लिये तेजी से आगे आयेंगे।

    Read more ...
  •     
City4Net
Political