विचार मंच

  • दरिंदगी की दास्तां सुनाने के पैसे लेता था निर्भया का दोस्तः वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम।

    राजधानी दिल्ली में 16 दिसंबर, 2012 की रात निर्भया के साथ हुई हैवानियत ने इंसानियत को शर्मसार कर दिया था. इस घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था. लोग सड़कों पर उतर आए थे. हर किसी की एक ही मांग थी कि निर्भया के साथ दरिंदगी करने वालों को फांसी हो. निर्भया के साथ जब दरिंदगी हो रही थी तब उसका एक दोस्त भी उसके साथ था, जो इस पूरी घटना का इकलौता चश्मदीद था. निर्भया के इसी ‘दोस्त’ और दिल्ली गैंगरेप कांड के इकलौते चश्मदीद को लेकर वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम ने सनसनीखेज दावा किया है. निर्भया के दोस्त को लेकर पत्रकार का सनसनीखेज दावा :

    Read more ...
  • झारखंड में रघुबर और हेमंत के बीच चुनावी घमासान। दिसंबर में चुनाव।

    - राजेश कुमार, टाइम्स ख़बर timeskhabar.com झारखंड विधान सभा का चुनाव का ऐलान भले ही न हुआ हो लेकिन यहां की राजनीतिक गतिविधियां तेज हो गई है। दिसंबर में चुनाव होने हैं। 81 सीटों वाली विधान सभा में मुख्य मुकाबला बीजेपी गठबंधन और झामुमो गठबंधन के बीच है। यदि बीजेपी की जीत होती है तो मुख्यमंत्री रघुबर दास का एक बार फिर मुख्यमंत्री बनना तय है। लेकिन यदि झामुमो गठबंधन की जीत होती है तो पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन हीं होंगे।

    Read more ...
  • सुपर-30 : विश्व भर में चर्चित गणितज्ञ आनंद कुमार हैं गरीब छात्रों के मसीहा ।

    सुपर-30 के संस्थापक व गणितज्ञ आनंद कुमार ने उच्च शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति कर दिया है गरीब बच्चों के लिये। ऐसा विश्व में कुछ हीं लोग होंगे उनमें से एक हैं आनंद। यदि कहा जाये कि वे भारत में एक मात्र ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने उच्च शिक्षा के लिये गरीब बच्चों को अपने खर्च पर रहने-भोजन-पढने और पढाने की व्यवस्था करने और सफलता दिलाने वाले एक मात्र व्यकति होंगे तो गलत नहीं होगा। विशेष बात यह है कि वे इन बच्चों को आईआईटी प्रवेश परीक्षा की तैयारी कराते हैं और हर साल लगभग 20 से 30 गरीब बच्चे सफल होते हैं। यह सिलसिला बीते एक दशक से अधिक समय यानी साल 2002 से चला आ रहा है। वे अब तक 450 से अधिक गरीब छात्रों को आईआईटी जैसे प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला के लिये सफलता दिला चुके हैं। इस साल (2019) भी सुपर-30 के 30 में से 18 छात्र IIT प्रवेश परीक्षा में सफलता हासिल की। साल 2008, 2009, 2010 और 2017 में सुपर 30 के सभी 30 छात्र आईआईटी की प्रवेश परीक्षा में सफल हुए थे।

    Read more ...
  • समाप्त होना ही अनुच्छेद 370 की नियति थी। स्थिति सामान्य करने में हमें सरकार की मदद करनी चाहिए : वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र प्रसाद

    संसद ने संविधान की धारा 370 के उन प्रावधानों को समाप्त कर दिया है, जिनसे जम्मू और कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा मिलता था। इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती भी दी गई है। सुप्रीम कोर्ट का निर्णय होगा, इसका पता तो तभी लगेगा, जब सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आएगा। फिलहाल हम कह सकते हैं कि उस राज्य का विशेष दर्जा समाप्त हो गया है। भारत का अभिन्न अंग तो वह पहले से ही है, लेकिन विशेष दर्जा समाप्त होने से अब वह देश के अन्य प्रदेशों जैसा ही हो गया है।

    Read more ...
  • सॉफ्ट लैंडिंग की असफलता के बावजूद चंद्रयान-2 की बड़ी सफलता। चंद्रमा के ऑर्बिट में स्थापित ऑर्बिटर ने भटके लैंडर विक्रम को ढूंड निकाला : वरिष्ठ पत्रकार राजेश कुमार

    मिशन चंद्रयान-2 को लेकर पूरा देश उत्सुक है। सॉफ्ट लैंडिंग में असफल होने के बावजूद पूरे देश को अपने वैज्ञानिकों पर गर्व है। इतना नहीं पूरा विश्व भारत की अंतरिक्ष क्षमता की सराहना कर रहा है और यहां तक कि नासा भी इसरो के साथ कई प्रोजेक्ट में काम करने की इच्छा जताया है। रूस तो भारत के साथ हीं है। अगला मिशन चांद पर इंसान को भेजने की है इसको लेकर रूस ने मदद का ऐलान भी किया है। बहरहाल इस समय लैंडर से संपंर्क करने की कोशिश जारी है। हालांकि माना जा रहा है कि यह कठिन है क्योंकि दक्षिणी चंद्रमा के मौसम और गुरूत्वाकर्षण के बारे में किसी को भी कुछ नहीं पता।

    Read more ...
  • झारखंड में चुनाव दिसंबर में क्या जीत के प्रति आश्वस्त नहीं है भाजपा : वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र प्रसाद

    दो राज्यों की विधानसभाओं के चुनाव की तारीखों की घोषणा हो चुकी है। इससाल के अंत तक तीन राज्यों की विधानसभाओं के चुनाव होने हैं। वे राज्य हैं- हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड। इसलिए उम्मीद की जा रही थी कि तीनो राज्यों के चुनाव एक साथ ही हो जाएंगे। वैसे यह सच है कि झारखंड की वर्तमान विधानसभा का कार्यकाल दिसंबर में समाप्त होगा, जबकि अन्य दोनों राज्यों की विधानसभाओं के कार्यकाल नवंबर के आरंभिक दिनों में समाप्त होंगे। लेकिन नवंबर और दिसंबर में बहुत ज्यादा का अंतर नहीं होता। और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तो एक साथ ही देश की सभी विधानसभाओं के चुनाव लोकसभा के चुनाव के साथ कराने की बातें बार बार करते रहते हैं।

    Read more ...
  • भारत को फिर चाहिए ऐसा ही 'गांधी' : वरिष्ठ पत्रकार प्रवीण कुमार।

    पूरा राष्ट्र मोहनदास करमचंद गांधी जिन्हें हम सब प्यार से बापू करते हैं की 150वीं जयंती मना रहा है। इस बात में कोई दो राय नहीं कि सत्य और अहिंसा के जो महान आदर्श बापू ने स्थापित किए थे और जिन आदर्शों के बूते भारत को गोरों से आजादी दिलाई थी उसकी वजह से दुनिया के अधिकांश देशों में उन्हें पूजा जाता है। लेकिन भारत में गांधी को लेकर जिस तरह की बहस छिड़ी हुई है उससे यह महसूस होता है कि भारत को बापू जैसा ही एक और गांधी की जरूरत है जो आज की पीढ़ी को बता सकें कि भारत जैसे देश में गांधी होने का मतलब क्या होता है। गांधी को लेकर देश के अंदर जिस तरह की गलतफहमियां हाल के कुछ वर्षों में पैदा की गईं हैं वह हमें देश के अंदर और देश के बाहर शर्मसार करती है। गांधी पर आरोपों की फेहरिस्त तो काफी लंबी है लेकिन दो-तीन बातें जो मन को विचलित करती है उसपर विचार करना जरूरी है। मे

    Read more ...
  • लालू यादव ने वंचित जनता को स्वर्ग नहीं, लेकिन स्वर ज़रूर दिया : वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल

    बिहार लालू यादव से पहले भी देश का सबसे बीमार, गरीब और अशिक्षित राज्य था. लालू प्रसाद का शासन खत्म होने के लगभग 14 साल बाद भी बिहार सबसे बीमार, गरीब और अशिक्षित राज्य है. इसलिए यह सवाल गैरवाजिब है कि लालू प्रसाद ने बिहार को यूरोप क्यों नहीं बना दिया? जब हम यह सवाल श्रीकृष्ण सिन्हा, माहामाया प्रसाद सिंह, केदार पांडेय, केबी सहाय, बिंदेश्वरी दुबे, भागवत झा, जगन्नाथ मिश्र, नीतीश कुमार जैसे मुख्यमंत्रियों और पिछले 15 साल में ज्यादातर समय वित्त मंत्री रहे सुशील मोदी से नहीं पूछते, तो ये सवाल सिर्फ लालू प्रसाद से कैसे पूछा जा सकता है?

    Read more ...
  • लोकसभा चुनाव से पूर्व उपप्रधानमंत्री देवीलाल-जयंती पर दिखेगी भाई-बहन की ताकत : वरिष्ठ पत्रकार राजेश कुमार।

    रिश्ते की पवित्रता ने हमेशा ही मजबूती दी है, चाहे पारिवारिक मामला हो या राजनैतिक। अभी बीते दिनों हीं उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने आईएनएलडी नेता अभय सिंह चौटाला को राखी बांध भाई-बहन संबंध को मजबूती दी। इससे दोनो नेताओं ने जहां एक ओर सामाजिक संदेश दिया वहीं राजनीतिक मजबूती भी प्रदान की एक-दूसरे को। भाई-बहन के संबंध कायम रहे तो आने वाले लोकसभा और विधान सभा चुनाव में इसके परिणाम दिखेगें।

    Read more ...
  • क्या पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान फौज के चंगुल से निकल पायेगें या उसकी कठपुतली बनेंगे : वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह ।

    (वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह)। पाकिस्तान में क्रिकेटर इमरान खान की सरकार से दुनिया के अमन पसंद लोगों को बहुत उम्मीदें हैं . सारी दुनिया में लोग टकटकी लगाये बैठे हैं कि शायद इमरान खान कोई ऐसी पहल करें जिससे इस खित्ते में शान्ति की बहाली हो सके. पाकिस्तान में शान्ति और लोकतंत्र स्थापित होने का सबसे ज़्यादा फायदा पकिस्तान की अवाम को होगा, पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को होगा और पाकिस्तानी राष्ट्र को होगा. पाकिस्तान में शान्ति और लोकतंत्र की स्थापना का अगर किसी बाहरी देश को फायदा होगा तो वह भारत है. भारत को बाकी देशों से ज़्यादा लाभ होगा . उसके कारण हैं साफ़ हैं . एक तो पाकिस्तान के पूरे समर्थन और उसकी साझीदारी से चल रहा आतंकवाद का खात्मा करने में दुनिया को मदद मिलेगी. भारत की एक बड़ी आबादी के बहुत सारे रिश्तेदार पाकिस्तान में रहते हैं , शादी ब्याह के रिश्ते हैं और आपस में रिश्तेदारों की मुलाकातें कई कई साल नहीं हो पातीं . अगर अमन की स्थापना हुयी तो दोनों देशों में बंटे हुए परिवारों में आपसी मेल मुलाकातें भी बढेंगी . जब दोनों देशों के अवाम में आपसी सम्बन्ध बढ़ेगा ,आवाजाही होगी तो दोनों ही देशों की जनता के हितों को ध्यान में रखकर सरकारें भी फैसले लेने के लिए मजबूर होंगी.

    Read more ...
  •     
City4Net
Political