खेल


सचिन क्रिकेट और भारत रत्न।

सचिन क्रिकेट और भारत रत्न।

मुंबई – मास्टर बलास्टर सचिन तेंडूलकर ने क्रिकेट से सन्यास लेने का ऐलान किया और इसी दिन भारत सरकार ने उन्हें भारत रत्न से सम्मानित करने का ऐलान किया। यह दिन सचिन के लिये विदाई के सुखद गम के साथ साथ दोहरे खुशियों वाला था। पहला यह कि टीम ने जहां सचिन को जीत का तोहफा दिया वहीं भारत सरकार ने देश का सबसे बड़ा सम्मान भारत-रत्न देने का ऐलान किया। भारत सरकार ने तेंडूलकर के साथ साथ वैज्ञानिक सी.एन.आर. राव को भी भारत रत्न से स्मानित करने का ऐलान किया।

अपने पद पर बने रहेंगे श्रीनिवासन।

अपने पद पर बने रहेंगे श्रीनिवासन।

चेन्नई। बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन अपने पद पर बने रहेंगे। लेकिन कामकाज नहीं संभालेंगे। वहीं बीसीसीआई के काम को देखने के लिये पश्चिम बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष जगमोहन डालमिया को जिम्मेदारी सौपी गई है। यह फैसला चेन्नई में बीसीसीआई की एक महत्वपूर्ण बैठक में ली गई। डालमिया भी श्रीनिवासन की ही पंसद है।

आनंद  बने विश्व  चैंपियन।

आनंद बने विश्व चैंपियन।

भारत के विश्वनाथ आनंद ने एक बार फिर विश्व शतरंज प्रतियोगिता का खिताब जीत लिया है। आंनद ने इजरायल के बोरिस गेलफंड को हराकर पांचवी बार विश्व चैंपियन बने हैं। यह मैच रूस की राजधानी मॉस्को में हुआ।

मै खिलाड़ी हूं और खिलाडी ही रहूंगा - सचिन

मै खिलाड़ी हूं और खिलाडी ही रहूंगा - सचिन

पुणे। मास्टर बलास्टर सचिन तेंडूलकर जितने महान क्रिकेट खिलाड़ी हैं उतने हीं बड़े वे समाज सेवी भी हैं। पुणे में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने साफ कर दिया कि वे क्रिकेटर हैं और क्रिकेटर ही रहेंगे। राज्य सभा में मनोनयन करने के बारे में सचिन ने कहा कि यह मेरे लिये गर्व की बात है। सचिन ने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा कि वे 400 गरीब बच्चों की पढाई का खर्च उठाते हैं।

सचिन तेंडूलकर एशिया कप में पूरा किया सौंवा शतक।

सचिन तेंडूलकर एशिया कप में पूरा किया सौंवा शतक।

उतार-चढाव के दौर से गुजर रहे सचिन तेंडुलकर ने आखिरकार एशिया कप में खेलते हुए बांग्लादेश के खिलाफ बांग्लादेश के मीरपुर में अपना सौवां शतक लगा दिया। 16 मार्च 2012 को उन्होंने अपना सौंवा शतक बनाया यानि सचिन को अपने सौवें शतक लगाने में एक साल तीन दिन लग गये।

ध्यानचंद और सचिन को अब मिल सकेगा भारत रत्न।

ध्यानचंद और सचिन को अब मिल सकेगा भारत रत्न।

नई दिल्ली। खेल के क्षेत्र से भी खिलाड़ियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जा सकेगा। इसके लिये केंद्र सरकार ने भारत रत्न दिये जाने के नियमों में बदलवा किया है। काफी समय से हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले ध्यानचंद और क्रिकेट विश्व के शानदार बल्लेबाज सचिन तेंडूलकर को भारत रत्न दिये जाने की मां हो रही थी।

 1