ध्यानचंद और सचिन को अब मिल सकेगा भारत रत्न।

ध्यानचंद और सचिन को अब मिल सकेगा भारत रत्न।

खेल के क्षेत्र से भी अब खिलाड़ियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जा सकेगा। इससे पहले ऐसा नियम नहीं था। इसके लिये केंद्र सरकार ने भारत रत्न से सम्मानित किए जाने के नियमों में बदलाव किये हैं। बदलावों के बाद उम्मीद है कि दुनिया मे हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले भारतीय खिलाड़ी ध्यानचंद और क्रिकेट के क्षेत्र में दुनिया के महानतम बल्लेबाज सचिन तेंडुकलकर अब भारत रत्न से सम्मानित किये जाने का रास्ता साफ हो गया है।
इन्हें सम्मानित करने की मांग पहले से होते आ रही थी लेकिन खिलाड़ियों को भारत रत्न दिये जाने का नियम नहीं था इसलिये नहीं दिया जा सका। अब किसी भी क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले शख्स को भारत रत्न से सम्मानित किया जा सकेगा। इससे पहले सरकार भारत रत्‍न के लिए विज्ञान, कला, साहित्‍य, और लोकसेवा के क्षेत्र में योगदान करने वाले लोगों के नाम पर ही विचार करती थी। इसलिए अब तक कोई भी खिलाड़ी देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान को हासिल नहीं कर पाया है।
देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न की शुरूआत 1954 में किया गया था। यह सम्मान भारतीय नागरिकों के अलावा विदेशी नागरिकों को भी दिया जा सकता है। पहले भी विदेशी होने के बावजूद खान अब्दुल गफ्फार खान और नेल्सन मंडेला को भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका है। अब तक कुल 41 लोगों को सम्मानित किया जा चुका है। इस अवार्ड से सबसे पहले स्वतंत्रता सेनानी तमिलनाडु के चक्रवर्ती राजगोपालचारी को सम्मानित किया गया था।