संस्मरण : जब अटल जी ने अपने ही मंत्री के बयान को गलत ठहराया ...

1
संस्मरण : जब अटल जी ने अपने ही मंत्री के बयान को गलत ठहराया ...

संस्मरण : भारत रत्न अटल जी के साथ मेरी भी यादें जुड़ी हुई हैं। जब वे प्रधानमंत्री थे और जॉर्ज फर्नांडीज रक्षा मंत्री। उसी दौरान  राष्ट्रपति भवन में अवार्ड समारोह का आयोजन हुआ । मैं भी कवर करने गया था। समारोह के बाद चाय का दौर चला।मुझे पत्रकारिता में 3 साल ही हुए थे । चाय के दौरान उनके जानने वाले कई पत्रकार बातचीत में मशगूल थे। इसी बीच मैंने अपना परिचय देते हुए ससम्मान आग्रह किया  कि प्रधानमंत्री जी सरकार से संबंधित एक सवाल कर सकता हूँ। कुछ सेकंड के लिए खामोशी छा गया। मौजूद पत्रकार जानते थे कि सवाल असहज होगा। क्योंकि प्रेस कांफ्रेंस में मेरे सवाल पर कई बार हायतौबा मच जाता था। प्रधानमंत्री जी ने भी कुछ सेकंड के सन्नाटे को तोडते हुए सवाल पूछने की हरी झंडी दे दी। 

कुछ पत्रकार कुछ कहना चाह रहे थे तभी प्रधानमंत्री वाजपेयी जी ने कहा कोई असहज सवाल है। अपना सवाल पूछें। 

सवाल - प्रधानमंत्री जी बीते दिनों  रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडीज ने बयान दिया है कि चीन ने अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा में हेलीपैड बनाया है क्या यह सही है?

उत्तर- प्रधानमंत्री वाजपेयी जी ने थोड़ी देर रुक कर कहा कि नहीं चीन ने भारतीय सीमा में कोई हेलीपैड नहीं बनाया है । गलत है। 

मीडिया जगत में हलचल मच गया। प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री के बयान अलग-अलग थे। समाचार के हेड लाइन बने। कुछ पत्रकार सवाल पूछने को लेकर नाखुश थे। बहरहाल प्रधानमंत्री वाजपेयी जी ने उत्तर दिया। उस समय सरकार की स्थिति अच्छी नहीं थी। हालात ऐसे थे कि पत्ता नहीं किस बात पर सहयोगी दल नाराज हो जाये। और सरकार पर संकट आ जाये लेकिन उन्होंने अपने मंत्री के बयान को गलत ठहराया।